Popular Songs / Superhit Songs

Sabko Malum Hai Main Sharabi Nahi - Pankaj Udhas


Sabko Malum Hai Main Sharabi Nahi - Pankaj Udhas
Lyrics
Sabko maloom hai main sharabi nahin
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Sabko maloom hai main sharabi nahin
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Mujho maikash samajhte hain sub vadakash
Mujho maikash samajhte hain sub vadakash
Kyunki unki tarah ladkadhata hoon main
Meri rag rag mein nasha mohabbat ka hai
Meri rag rag mein nasha mohabbat ka hai
Meri rag rag mein nasha mohabbat ka hai
Jo samajh mein na aaye to main kya karoon
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Aur kasam toot jaye to main kya karoon

 Haal sunkar mera sehme sehme hain vo
Haal sunkar mera sehme sehme hain vo
Koi aaya hai zulfen bikhere hue
Maut aur zindagi dono hairaan hain
Maut aur zindagi dono hairaan hain
Maut aur zindagi dono hairaan hain
Dum nikelne na paaye to main kya karoon
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Aur kasam toot jaye to main kya karoon

Kaisi lat, kaisi chahat, kahan ki khata
Kaisi lat, kaisi chahat, kahan ki khata
Bekhudi mein hai Anwar khudi ka nasah
Zindagi ek nashe ke siva kuch nahin
Zindagi ek nashe ke siva kuch nahin
Zindagi ek nashe ke siva kuch nahin
Tumko peena na aaye to main kya karoon
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Sirf ik baar nazron se nazren milen
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Aur kasam toot jaye to main kya karoon
Sabko maloom hai main sharabi nahin
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon
Phir bhi koi pilaye to main kya karoon

सब को मालूम है मैं शराबी नहीं
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
सब को मालूम है मैं शराबी नहीं
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
मुझ को मैं खश समझता है सब बड़ा खश
मुझ को मैं खश समझता है सब बड़ा खश
क्यूँ के उनकी तरह लड़खड़ाता हूँ मैं
मेरी रग रग में नशा मुहब्बत का है
मेरी रग रग में नशा मुहब्बत का है
मेरी रग रग में नशा मुहब्बत का है
जो समझ में ना आए तो मैं क्या करूँ
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
हाल सुन कर मेरा सहमे-सहमे हैं वो
हाल सुन कर मेरा सहमे-सहमे हैं वो
कोई आया है ज़ुल्फ़ें बिखेरे हुए
मौत और ज़िंदगी दोनों हैरान हैं
मौत और ज़िंदगी दोनों हैरान हैं
मौत और ज़िंदगी दोनों हैरान हैं
दम निकलने न पाए तो मैं क्या करूँ
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
कैसी लूट कैसी चाहत कहाँ की खता
कैसी लूट कैसी चाहत कहाँ की खता
बेखुदी में हाय अनवर खिदू का नशा
ज़िंदगी एक नशे के सिवा कुछ नहीं
ज़िंदगी एक नशे के सिवा कुछ नहीं
ज़िंदगी एक नशे के सिवा कुछ नहीं
तुम को पीना न आए तो मैं क्या करूँ
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
सिर्फ़ एक बार नज़रों से नज़रें मिलें
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
और क़सम टूट जाए तो मैं क्या करूँ
सब को मालूम है मैं शराबी नहीं
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
फिर भी कोई पिलाए तो मैं क्या करूँ
स्रोत: Musixmatch
Back To Top

stat

facebook

Powered by Blogger.